प्रियंका चोपड़ा ने अमेरिका में प्रवासी होने का मतलब और अनुभव किया शेयर


Priyanka Chopra On Being A Migrant In America: प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) दुनिया के किसी भी कोने में चली जाएं, उनके दिलो-दिमाग से उनके देसी अंदाज या फिर यूं कहें तो उनके अंदर से ‘देसी गर्ल’ (Desi Girl) को नहीं निकाला जा सकता है. एक्ट्रेस खुद इस बात को कई मौकों पर कहती नजर आई हैं, और इस बात को प्रूव भी किया है. बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक का प्रियंका का सफर सैल्यूट करने के लायक है. हाल ही में, प्रियंका ने न्यूयॉर्क (New York) में इंडियन रेस्टोरेंट खोला है. प्रियंका के इस रेस्टोरेंट का नाम ‘सोना’ रखा गया. इसके बाद उन्होंने ‘सोना होम’ (Sona Home) नाम का होमवेयर ब्रांड लॉन्च किया है.

प्रियंका चोपड़ा ने अपने नए पोस्‍ट में अमेरिका में प्रवासी होने के मतलब और अपने अनुभव को शेयर किया है. प्रियंका कहती हैं, ‘भारत से आकर अमेरिका को अपना दूसरा घर बनाना बेहद चैलेंजिंग रहा. लेकिन मेरी ये यात्रा मुझे ऐसी जगह लेकर आई, जहां मुझे अपना दूसरा परिवार और दोस्‍त मिले. मैं यहां हर चीज में भारत का एक अंश लेकर आई. मैं जो भी करती हूं, उसमें एक भारतीय की झलक है.’


प्रियंका ने आगे क्या कहा

भारतीय संस्कृति को लेकर प्रियंका कहती हैं, ‘भारतीय संस्‍कृति अपने सत्‍कार के लिए जानी जाती है. यह लोगों को साथ जोड़ने और अपने समुदाय के बारे में है. मेरे लिए भी एक प्रवासी के तौर पर यह बहुत मायने रखता है.’


प्रियंका ने हाल ही में ‘सिटाडेल’ (Citadel) शूटिंग पूरी की है, जिसमें वह ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ के स्टार रिचर्ड मैडेन के साथ नजर आएंगी. उधर, प्रियंका बॉलिवुड में भी वापसी कर रही हैं. वह जोया अख्‍तर (Zoya Akhtar) की फिल्‍म ‘जी ले जरा’ में आलिया भट्ट (Alia Bhatt) और कटरीना कैफ (Katrina Kaif) के साथ नजर आएंगी. हालांकि, पिछले दिनों खबर आई है कि इस फिल्‍म की शूटिंग को अभी कुछ दिनों के लिए आगे बढ़ा दिया गया है.

ये भी पढ़ें
Bhabiji Ghar Par Hain: घरवालों की मर्जी के खिलाफ जाकर एक्टिंग की दुनिया में आए योगेश त्रिपाठी, एक एपिसोड के लिए लेते हैं इतने पैसे!

Women Centric Film: कम बजट में बनती हैं वुमेन सेंट्रिक फिल्में, कृति सेनन ने कहा – हिचकिचाते हैं लोग





Source link

Share this post


Translate »